जिंदगी की यही कहानी है

घर भरा है ऐशो-आराम के

साजो-सामान से

किंतु कहीं कुछ खाली है;

समझ में आता नहीं है

क्या असली क्या जाली है?

हर वक्त सालती हमको ख्वाहिशें

आज यह कल वह चाहिए

पूरी जिंदगी की यही कहानी है।


Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s