थोड़ी देर

मां धरती थोड़े देर ही सही

मैं थक गई हूं

अपनी गोद में सुला लो ।

अपनी ममतालु हाथों से

थपकी दे मुझको

गा लोरी सुला दो ।

या फिर सुनाओ – वही कहानी

एक थी परियों की रानी

चंदा के घर में रहती थी ।

सपने में चंदा मामा के घर जाऊं

दूर टिम – टिम करते तारे

आहा ये सपने कितने प्यारे !

सपने आंखों को बहलाते

झूठे ही सही , टूटे मन को सहलाते ।

तो ले चलो ना फिर सपनों के गांव

यादों के पनघट पर;

अपने पीपल बरगद की –

शीतल छांव में

मां मुझे थोड़ी देर सुला लो ।


Advertisements

5 thoughts on “थोड़ी देर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s