शब्द ही ब्रह्म है

शब्द है ब्रह्म रूप

अर्थ उसका प्रकाश

शब्द अर्थ से परे

नहीं जीवन – विकास ।

हम बोल रहे हैं अनवरत

खोल रहे हैं खुद को

वह जो चुप है वीर वही

शब्दों से हारा जो व्यक्ति नहीं ।।


Advertisements

श्रेणी:Uncategorized

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s