परिंदे घूमते हैं बेख़ौफ , खौफज़दा बस आदमी है।

बड़ी शख्सियत देखकर

न अंदाजा लगाना उसकी ताकत का

सुनहरे लिबासों में भी गमज़दा बस आदमी है।

चमकती सीढ़ियां कामयाबी की

बड़े चक्कर घुमाती हैं,

बुलंदी के आसमानों से भी गिरा बस आदमी है।

न कलमा न तस्बीह झूठे हैं,

बहुत हो गया कोसना रब को

सच तो ये है ,

खुदा की नज़र से गिरा बस आदमी है।

मिटा डाला जहां को

अपने जूनून की खातिर ,

इंसानियत और ईमान की निचली

पायदान पर खड़ा बस आदमी है।


Advertisements

18 Comments »

  1. रचना मैडम, बहुत ही प्रेरणादायक कविता है आपकी……..

    एक रोज़ तय है ‘राख’ में तब्दील होना,
    उम्रभ़र फिर क्यों औरों से ‘जलता’ है आदमी

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s