Enlighten yourself- 10

0

Hello everyone welcome to another new wonderful post of mine. That’s what it feels to me.

Continue reading

Advertisements

स्वर्गीय अटल जी को उनके जन्मदिवस पर मेरा नमन..

5

अटल जी आपकी जयंती पर अपको मेरा नमन । आज आप के जैसे व्यक्तित्व की ही आवश्यकता है।आपके कथन और कविता को आपकी भावांजलि का माध्यम बना रहीं हूं-

“हार नहीं मानूंगा,रार नहीं ठानूंगा।

काल के कपाल पर लिखता हूं -मिटाता हूं,

गीत नया गाता हूं।”

“आदमी को चाहिए वह जूझे / परिस्थितियों से लड़ें

एक स्वप्न टूटे / तो दूसरा गढ़े।”

“दांव पर सब कुछ लगा , रूक नहीं सकते / टूट सकते हैं ,

मगर हम झुक नहीं सकते।”

“इससे फर्क नहीं पड़ता/कि आदमी कहां खड़ा है/

पथ पर या रथ पर/

तीर पर या प्राचीर पर /

फर्क इससे पड़ता है कि/

जहां खड़ा है/

या जहां उसे खड़ा होना पड़ा है/

उसका धरातल क्या है?”

” होना न होना एक ही सत्य के/

दो आयाम हैं ,शेष सब समझ का फेर है/

बुद्धि के व्यायाम हैं ।”

“जो जितना ऊंचा/

उतना ही एकाकी होता है,

हर भार वह स्वयं ही ढोता है।”

उपरोक्त पंक्तियों में उनका महिमा मंडित व्यक्तित्व झलक रहा है। उस महान राजनीतिज्ञ को बार-बार सहस्र बार प्रणाम 🙏🙏🙏🏵️🏵️🌹🌹

धन्यवाद आप सबका 🙏🙏

Happy anniversary!!

32

A year passed, but lessons received from here will stay throughout my life. And most importantly, WordPress gifted me a

<!–more–>

whole new world with simply amazing friends. Friends who have now become my life’s treasures! Thank you so very much for all your love, care and support.

I feel more lucky than happy, to be a part of this amazing world of WordPress family.The support you all have given me, is very much appreciated. Thank you very much. May this support of yours always be with me.

Tons of Thanks to all you wonderful and amazing people, who made this journey so easy and fun and beautiful!


Thanks a ton!