दर्पण

0

मैं हूं दर्पण तुम्हारा

दिखाती हूं प्रतिबिंब तुमको

भोग्या माना तो ब्रह्म से च्युत –

राक्षस बनोगे

Continue reading

Advertisements