जिंदगी की यही कहानी है

0

घर भरा है ऐशो-आराम के

साजो-सामान से

किंतु कहीं कुछ खाली है;

समझ में आता नहीं है

Continue reading

Advertisements