हम हैं आधुनिक

2

दूर से आती

किसी विदेशी ब्रांड के परफ्यूम की खुशबू

चाह जगी देखा तो थी शिखा सजी

Continue reading

Advertisements

मृत संवेदना प्रखर प्रवंचना

6

महत्वाकांक्षा का मोती पलता है

निष्ठुरता के सीप में।

सहन नहीं कर पाता

अपने अवरोधों को ;

कत्ल कर देता है उनका

जो उसे खतरे का संशय लगते हैं ।

Continue reading

Happy children’s Day

6

छलक रहा था स्नेह अमल दृगपटों से

अनभिज्ञता झांक रही थी अक्षकोरों से।

अपनी धुन में था बेपरवाह,

समझता खुद को शहंशाह

अल्हड़ता ,चंचलता और मस्ती में।

वह गुम था अपनी बस्ती में।

यह बस्ती नहीं मजहबी

वह तो था निरपेक्षी।

Continue reading

🎆Happy Deepawali🎆

8

नमस्कार दोस्तों। इस पावन पर्व पर में आप सबके समक्ष अपनी एक कविता प्रस्तुत करना चाहती हूं:-

कपड़े, मिठाई और पटाखे खरीदकर,

त्यौहार के लिए तैयार हो जाएं।

दुख के अंधेरे दूरकर,

खुशियों के दीप जलाएं।

दीपावली की आपको हार्दिक शुभकानाएं।

नफरत को दिल से दूरकर,

परायों को अपना बनाएं।

Continue reading

खाली हाथ लौटाया गया हूं

8

यूं ही चलते चलते…….. कुछ हटकर :-

———————————–
मैं उनके दर से ठुकराया गया हूँ !
नसीहत देके बहकाया गया हूँ !!
————————————-
यहीं जन्नत सजा ली शेख़ जी ने !
मैं वादे पर ही बहलाया गया हूँ !!
————————————–
भले करती हों आंखें क़त्ल उनकी !
मगर मुजरिम मैं ठहराया गया हूँ !!
—————————————
लिखाया है रपट थाने में , शायद !
मैं उसके दिल में फिर पाया गया हूँ!!
—————————————
मेरी नाकामियों खुशियां मनाओ !
मैं खाली हांथ लौटाया गया हूँ !!
—————————————

—–Khursheed Alam ——–


प्रतिमानाटकम् से आज तक

2

प्रतिमानाटकम् का प्रथम अंक जिसमें भास अपनी मौलिकता का परिचय देते हुए परिहासवश सीता को वल्कल पहनते हुए दिखाते है। प्रसंग यह है कि राज्याभिषेक से पूर्व एक सखी कुछ वल्कल (गेरुआ साधु के वस्त्र) लेकर आती है। सीता को यह वस्त्र बहुत सुंदर लगते हैं। सीता उन्हें पहन लेती हैं।

उसके उपरांत कुछ देर बाद राम आते हैैं । राम भी वल्कल पहनना चाहते हैं। सीता राम को मना करते हुए कहती हैं- “आर्य आपका राज्याभिषेक होने वाला आप इसे नहीं पहन सकते। यह अपशकुन होगा”। राम सीता से आग्रह करते हुए जो तर्क देते है वह बड़ा समीचीन है – “देवी तुमने स्वयं वल्कल पहन कर मेरे आधे शरीर को तो वल्कल पहना ही दिया है। अब इसे पूर्ण कर दो।”

Continue reading

Happy Gandhi Jayanti!!

11

आप सभी को गांधी जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं। इस शुभ पर्व पर हमारे प्यारे बापू का जन्म हुआ था। इस पावन अवसर पर मैं अपनी कविता ‘बापू अब तुम ही बोलो’ को पुनः प्रस्तुत करना चाहूंगी :-


चेहरे से मानुष हैं सब

संवेदन रहित ह्रदय के करतब।

छल छद्म द्वेष के शिकार।

हर पग पर हो खुद का विस्तार

साजिशों की घिनौनी हरकत।

मिटा कर बड़ी लकीरें

काट कर गला किसी सरल का

Continue reading

Happy Eid – al – adha!

7

आप सभी को ईद की शुभकामनाएं। ईद के इस शुभ अवसर पर में आपके समक्ष श्री केदारनाथ जी की एक कविता प्रस्तुत करना चाहूंगी:

हम सब मिलकर ईद मनायें
सबकी उम्मीदों पर छायें
जग में ऐसे प्यार लुटायें
हम सब मिलकर ईद मनायें
नेक बनेंगे एक बनेंगे
भेद नहीं प्यार करेंगे
नाचें गायें धूम मचायें

Continue reading

Happy Friendship day!

10

मैथिलीशरण गुप्त की सुन्दर रचना:

तप्त हृदय को , सरस स्नेह से ,
जो सहला दे , मित्र वही है।

रूखे मन को , सराबोर कर,
जो नहला दे , मित्र वही है।

Continue reading

हरियाली साड़ी ओढ़े मां धरती को मेरा नमन!

14

सावन में हर तरफ हरियाली ही नजर आती है। बारिश की बूंदें पेड़ों पर गिरते हुए मुझे बहुत अच्छी लगती हैं। हवा के झोंको के साथ हिलते-डुलते ये वृक्ष और उनसे फूटती स्वर लहरियां तथा बारिश के कारण कातर हो छांह और ठौर तलाशते पक्षी मुझे अत्यंत मनोरम लगते हैं। प्रकृति अनुपम सुन्दरी है। प्रतिपल प्रतिक्षण जो नवीन है कला प्रेमी उसे ही सुन्दर कहते हैं। प्रकृति बिना भेदभाव के सबको सुख देती है। हवा की लहरियों पर हिलते-डुलते वृक्ष मुझे बहुत आकर्षक लगते हैं। कुछ पंक्तियां उन पर लिख रहीं हूं-

थिरकते हैं द्रुम हवा के ताल पर

विहवल होकर ,

प्रत्येक डाली ,वल्लरी नाच रही

कितनी रोमांचक है यह थिरकन!

Continue reading

दर्द जब बढ़ जाता है

2

दर्द जब बढ़ जाता है तो नींद चली जाती है

दर्द के कम होने की उम्मीद चली जाती है।

क्या कहूं हालत ए जिगर मैं

इसकी आदत है मचलने की

कहां तक रोकूं निगाहों को

इनकी आदत है फिसलने की

मचलने और फिसलने की ज़िद्द नहीं जाती।

Continue reading

मुझे छोड़ दो इस दर्द के साथ अकेला

4

मुझे छोड़ दो इस दर्द के साथ अकेला

भरम ना दिखाओ अपनेपन का बहुत

तुम भी हो खालिस बातों का रेला

मुझे छोड़ दो इस दर्द के साथ अकेला।।

हर डोर रिश्तो की रेशमी तारों से बनी

जाने कब टूट जाए, रह जाए दिल अकेला

Continue reading

Meaning of being a women

15

This can be my personal opinion because the great men have been the first to contribute to the fight for women’s rights. They always encouraged the women to protect their dignity and their existence. In India, the woman was kept before men, but the invaders made us beast and brutal and we forgot morality and humanity. Today the meaning of being a woman has changed. Somewhere, our upbringing is responsible for our present scenario : –

The more I keep these barriers aside,
The more they overtake me.
The meaning of being a woman
Is to accept these boundaries somehow
From childhood to death
These protective cages secure us
but also have their own conditions
To follow them is a woman’s destiny.
These boundaries made us women weak and dependent!
Giving birth to the world from its womb
Nowadays in every way, is being exploited

Continue reading

एक औरत होने के मायने

4

यह मेरी व्यक्तिगत राय हो सकती है क्योंकि औरतों के हक की लड़ाई में महापुरुषों का ही सर्वप्रथम योगदान रहा। उन्होंने स्त्रियों को उनकी गरिमा और अपने अस्तित्व की रक्षा करने को सदैव उद्यत किया। भारत में स्त्री को पुरुषों से पहले रखा जाता था किन्तु आक्रान्ताओं ने हमें अपसंस्कृति के जाल में ऐसा उलझाया की हम अपना मूल स्वरूप ही भूल बैठे ! आज औरत होने के मायने बदल गए हैं। हमारी परवरिश ही हमें कहीं न कहीं दुर्बल बनाती है-

कितना भी किनारे रख दूं

इन बाड़ों को,

ये सामने आ ही जाते है

एक औरत होने के मायने

इन बाड़ों को किसी न किसी तरह स्वीकार करो ।

बचपन से लेकर मौत तक

ये सुरक्षा के बाड़े हमारा साथ देते हैं

Continue reading

वाजश्रवा के बहाने

0

“वाजश्रवा के बहाने” कवि कुंवर नारायण की अति प्रसिद्ध आख्यायिका है। आक्सफाम के एक सर्वे के अनुसार विश्व की आधी संपत्ति पर केवल एक प्रतिशत लोगों का कब्जा है। प्रोफेसर थामस पिकेटी के अनुसार अमेरिका, जापान, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन में आर्थिक विषमता तेजी से बढ़ रही है। भारत में भी स्थिति कमोबेश वैसी ही है। कुंवर नारायण की पंक्तियों को जब मैं ने इस संदर्भ में उपयुक्त पाया तो इसे आपके समक्ष प्रस्तुत करने से खुद को रोक नहीं पाई

तुम्हें खोकर मैं ने जाना

हमें क्या चाहिए -कितना चाहिए

क्यों चाहिए, संपूर्ण पृथ्वी

जबकि उसका एक कोना बहुत है

Continue reading

आदमी

18

परिंदे घूमते हैं बेख़ौफ , खौफज़दा बस आदमी है।

बड़ी शख्सियत देखकर

न अंदाजा लगाना उसकी ताकत का

सुनहरे लिबासों में भी गमज़दा बस आदमी है।

चमकती सीढ़ियां कामयाबी की

Continue reading

रविन्द्रनाथ टैगोर

3

जीवन में जो पूजाएं पूरी नहीं हो सकती हैं , मैं ठीक जानता हूं कि वे भी खो नहीं गई हैं। जो फूल खिलने से पहले ही पृथ्वी पर झड़ गया है, जो नदी मरुभूमि के मार्ग में ही अपनी धारा को खो बैठती है,-मैं ठीक जानता हूं कि वे भी खो नहीं गई हैं। जीवन में आज भी जो कुछ पीछे छूट गया है, जो कुछ अधूरा रह गया है, मैं ठीक जानता हूं कि वह भी व्यर्थ नहीं हो गया है। मेरा जो भविष्य है , जो अब भी अछूता रह गया है,वे तुम्हारी वीणा के तार में बज रहे हैं, मैं ठीक जानता हूं , ये भी खो गये हैं-

जीवने यत पूजा हतो न सारा,

जानि हे जानि ताओ हय नि हारा।

ये फल ना फुटिते झरेछे धरणी

ये नदी मरूपथे हारालो धारा।

Continue reading

मृत संवेदना प्रखर प्रवंचना

0

महत्वाकांक्षा का मोती पलता है

निष्ठुरता के सीप में।

सहन नहीं कर पाता

अपने अवरोधों को ;

कत्ल कर देता है उनका

जो उसे खतरे का संशय लगते हैं ।

Continue reading

अभाव

2

अभावों की परछाई

आजकल आदमी के साथ

दिन भर रहती है।

भरते-भरते अपना थैला

थककर रात में जब वह सोता है

स्वप्न में दूसरा अभाव होता है।


परीक्षा भवन

0

हाथ में पश्नपत्र लिए

सवालों के सुलझे – अनसुलझे

गुत्थ – म – गुत्थ में उलझे

कुछ जवाबों को हल करते

कुछ को टालते

कभी आत्मविश्वास से गौरवान्वित

कभी हार के डर से

शू्न्य को निहारते

Continue reading

मन

0

मन भटकाता है

मन विरमाता है

हर काम से पहले

मन हमको आजमाता है।

जीतूंगा या हारूंगा

जय पराजय के संशय में

मन हमको उलझाता है

Continue reading

भरम ही भरम

0

हम नाहक ही सबको अपना समझते रहे

छोटी सी मुट्ठी में जहां नहीं समाता।

चांद दूर ही रहे तो सही

पास जाकर कहीं टूट न जाए

उसकी सुन्दरता का भरम।

कभी भरम को भी ढोओ ,

शायद सच का सामना

Continue reading

विचार क्यों नहीं आते

0

क्यों विचार लिखते समय

साथ नहीं देते

वे सुखद स्मृतियों की तरह,

काफूर हो जाते हैं।

वे आते हैं जब धोती रहती हूं,

बच्चों के कपड़े।

वे आते हैं जब करती रहती हूं,

घर के खर्च का हिसाब।

Continue reading

हम आधुनिक है

0

दूर से आती

किसी विदेशी ब्रांड के परफ्यूम की खुशबू

चाह जगी देखा तो थी शिखा सजी

छोटे टॉप पर टाइट जींस

हल्के लिपस्टिक ,मस्कारा के साथ

बालों को ढीला बांध लगा ली मैच की बिंदी।

बालकनी से झांक -झांक

कह रही थी ‘स्टुपिड नहीं आया अभी’।;

सीढ़ी से उतर रही थी जब –

आकुलता देख पूछा बरबस

कहां जा रही हो? वह भी इस निखार के साथ!

तमतमा कर बोली –

‘फेर दिया पानी सारी मेहनत पर

Continue reading

तारीख

0

तारीखों का फैशन सा चल पड़ा है

जन्म से लेकर मृत्यु तक

हर क्षण का मूल्य हम चुकाते रहते हैं।

एक तारीख़ का अनुभव

क्या कभी दूसरे से मैच करता है?

कुछ तारीखों हमें मालामाल करती हैं,

वहीं कुछ कंगाल कर जाती हैं

Continue reading

बापू अब तुम ही बोलो

0

चेहरे से मानुष हैं सब

संवेदन रहित ह्रदय के करतब।

छल छद्म द्वेष के शिकार।

हर पग पर हो खुद का विस्तार

साजिशों की घीनौनी हरकत।

मिटा कर बड़ी लकीरें

काट कर गला किसी सरल का

बन गए सफलता के शिखर

‌‌ उजाड़ दिया भारती के कानन को।

Continue reading

मां

0

मां ईश्वर की सबसे सुंदर कृति है।

मां दुनिया की सबसे बेहतर अभिव्यक्ति है।

मां ममता से सारी दुनिया चलती है।

मां संसार शिशु की लोरी थपकी है।

मां सृष्टि का नींव आधार है।

Continue reading

असलियत

0

बहुत रोए जानकर असलियत

शायद भरम ही ठीक था

मत मुखौटों को उठाओ अब

जानती हूं कत्ल करने वाला –

ईमान का ; मेरा ही मीत था ।

शिनाख्त पैरवी करूं कैसे ?

Continue reading

बाजार

7

पहले तो ईमान को बेचा

अब अंदर के इंसान को बेचो!

यौवन बगिया में आग लगाकर

मासूमियत के भगवान को बेचो।

बाजार बन गई दुनिया सारी

बिकें तन यौवन के

Continue reading